HomeInvestmentम्यूचुअल फंड में क्यों निवेश करें?

म्यूचुअल फंड में क्यों निवेश करें?

हमें म्यूचुअल फंड की आवश्यकता क्यों है?

जैसा कि हम इसके पहले भाग में म्यूच्यूअल फण्ड क्या है इसके बारे में बात कर चुके है,अब इसके आगे हम आप को बताते चले कि केवल बचत नहीं बल्कि निवेश करें, बचत और निवेश के बीच का अंतर समझें। आय से कम खर्च बचत है लेकिन बढ़ती हुई कीमतें समय के साथ आपकी बचत का मूल्य कम कर देंगी। निवेश केवल मुद्रास्फीति के अनुरूप नहीं होकर उससे कहीं अधिक हो जिससे कि वह आय का दूसरा स्रोत बन सके। म्यूचुअल फंड इक्विटी फंड, डेब्ट फंड, निधियों का फंड, एक्सचेंज – ट्रैडेड फंड, स्थायी परिपक्वता योजनाओं, सेक्टर आधारित फंड और अन्य कई इसी प्रकार के उन्नत उत्पादों श्रृंखला प्रदान करता है.

चाहे इसका उद्देश्य वित्तीय लाभ हो या सुविधा, म्यूचुअल फंड अपने निवेशकों को कई लाभ प्रदान करता हैWhy Mutual Fund

भारत में म्यूचुअल फंड का इतिहास

म्यूचुअल फंड का जन्म स्थान – यूएसए
भारत में इतिहास:

  • 1964-1987 (चरण I) – यूनिट ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया (यूटीआई) का विकास
  • 1987-1993 (चरण II) – सार्वजनिक क्षेत्र का प्रवेश
  • 1993-1996 (चरण III) – निजी फंड्स का उद्भव
  • 1996-1999 (चरण IV) – विकास और सेबी विनियम
  • 1999-2004 (चरण V) – बड़े एवं समरूप उद्योगों का उद्भव
  • 2004 के बाद (चरण VI) – समेकन और विकास

म्यूचुअल फंड में निवेश कैसे किया जा सकता है?

एकमुश्त/एक बारगी निवेश हेतु कोई भी म्यूचुअल फंड में मात्र रू. 5000/- के निवेश से बिना किसी अधिक सीमा तक निवेश कर सकता है और अधिकतर म्यूचुअल फंड योजनाओं में रू. 1000/- का बाद में/अतिरिक्त अभिदान कर सकते हैं। तथा इक्विटी लिंक बचत योजना (ईएलएसएस) के लिए, न्यूनतम राशि रू. 500/- तक हो सकती है.

यहाँ तक कि सिस्टमैटिक निवेश योजना (एसआईपी) के माध्यम से कोई भी जब तक उसकी इच्छा हो रू. 500/- प्रति माह भी निवेश कर सकता है

सिस्टमैटिक निवेश योजना – एसआईपी क्या है?

सिस्टमैटिक निवेश योजना (एसआईपी) म्यूचुअल फंड द्वारा प्रदान की जाने वाली एक निवेश योजना (विधि) है जिसमें एकमुश्त निवेश की बजाय आवधिकता के आधार पर, निर्धारित अंतराल में जैसे महिने में एक बार निर्धारित राशि का निवेश किया जा सकता है। एसआईपी किस्त की राशि कम से कम रू. 500/- प्रति माह हो सकती है। एसआईपी आवर्ती जमा के समान है जहाँ पर एक छोटी/निर्धारित राशि प्रति माह जमा की जाती है.

एसआईपी म्यूचुअल फंड में निवेश करने की एक बहुत ही सरल विधि है जिसमें हर बार बिना चेक देने की बजाय स्थायी अनुदेशों के माध्यम से अपने खाते से प्रति माह राशि डेबिट कराई जा सकती है। एसआईपी के कुछ लाभ नीचे सूचीबद्ध किए गए है:

  • रूपी कॉस्ट एवरेजिंग
  • पॉवर ऑफ़ कम्पाउंडिंग
  • जल्दी की गई शुरूआत अच्छा भुगतान देती है

अपने निवेश से सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करने के लिए, यह महत्त्वपूर्ण है कि लंबी अवधि के लिए निवेश किया जाए, इसका अर्थ है अंत में अधिकतम रिटर्न प्राप्त करने के लिए निवेश की शुरूआत जल्दी की जानी चाहिए.

म्यूचुअल फंड के अंतर्गत कौन से उत्पाद उपलब्ध हैं?

आपकी कोई भी आयु, वित्तीय स्थिति, जोख़िम सह्यता और रिटर्न अपेक्षाएँ हो, आपकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विभिन्न म्यूचुअल फंड योजनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है। म्यूचुअल फंड योजनाओं में निवेश करने से पूर्व; आपको यह पता होना चाहिए कि आपकी आवश्यकताओं के लिए कौन-सी योजना सही है.

वृद्धि योजनाएँ

मध्यम से दीर्घकाल के लिए पूँजी में वृद्धि का लक्ष्य। इन योजनाओं में सामान्यतः अधिकतर फंड को इक्विटी में निवेश किया जाता है और भविष्य में संभावित मूल्य वृद्धि के लिए अल्पकालिक मूल्य में कमी को सहन करने के लिए तैयार रहते है.

आय योजनाएँ

निवेशकों को नियमित और स्थायी आय उपलब्ध कराने का लक्ष्य। इन योजनाओं में सामान्यतः स्थायी आय प्रतिभूतियों जैसे बॉण्ड और कॉर्पोरेट डिबेंचर फिक्सड इनकम में निवेश किया जाता है। इन योजनाओं में पूँजी वृद्धि सीमित होती है.

बैलेंस योजनाएँ

आवधिकता के आधार पर अर्जित की गई आय और पूँजी के भाग को वितरित करके ग्रोथ और इनकम प्रदान करने का लक्ष्य। वे उनके प्रस्ताव दस्तावेजों में दर्शाए गए अनुपात में शेयर और स्थायी आय प्रतिभूति दोनों में निवेश करते हैं। शेयर बाज़ार के उछाल पर, इन योजनाओं की एनएवी में सामान्यत उछाल और बाज़ार में गिरावट के समय गिरावट नहीं होती है.

मनी मार्केट/ लिक्विड योजनाएँ

आसान तरलता, पूंजी का संरक्षण और मध्यम आय प्रदान करने का लक्ष्य। इस योजना में सामान्यतः अल्पकालिक लिखतों जैसे ट्रेज़री बिलों, सर्टिफिकेट ऑफ़ डिपॉजिट, कॉमर्सियल पेपर तथा अंतर बैंक कॉल मनी में सुरक्षित निवेश किया जाता है। इन योजनाओं के रिटर्न में, मार्केट में प्रचलित ब्याज दरों के आधार पर उतार-चढ़ाव हो सकता है.

टैक्स सेविंग योजनाएँ (इक्विटी लिंक बचत योजनाएँ – ईएलएसएस)

यह योजनाएँ निवेशक को समय –समय पर निर्धारित कर कानूनों के अंतर्गत कर में छूट देती हैं और म्यूचुअल फंड के माध्यम से इक्विटी में दीर्घकालिक निवेश करने हेतु प्रोत्साहित करती हैं.

जो निवेशक इंडेक्स में दिए गए रिटर्न के लगभग समान रिटर्न प्राप्त होने से संतुष्ट हैं उनके लिए इंडेक्स फंड योजनाएँ आदर्श हैं।

जिन निवेशकों ने पहले से ही किसी विशिष्ट सेक्टर या सैग्मेंट में निवेश करने का निर्णय ले लिया है उनके लिए सेक्टरल फंड योजनाएँ आदर्श हैं.

स्थायी परिपक्वता योजनाएँ

स्थायी परिपक्वता योजनाएँ (एफएमपी) म्यूचुअल फंड द्वारा दी जानेवाली निवेश योजनाएँ है जो निर्धारित अवधि के समाप्त होने पर बंद होती हैं, परिपक्वता अवधि एक महिने से तीन/पाँच वर्षों के बीच की हो सकती हैं.

यह योजनाएँ मुख्य रूप से डेब्ट उन्मुख होती है, जबकि इनमें से कुछ में थोड़ा इक्विटी घटक हो सकता है

एक्सचेंज – ट्रैडेड फंड (ईटीएफ)

एक्सचेंज – ट्रैडेड फंड अनिवार्य रूप से इंडेक्स फंड होते हैं जो स्टॉक की भाँति एक्सचेंज में सूचीबद्ध और ट्रैड किए जाते हैं.

पूँजी संरक्षण उन्मुखी योजनाएँ

पूँजी संरक्षण उन्मुखी योजनाओं का प्राथमिक उद्देश्य उच्च गुणवत्ता वाली स्थायी आय प्रतिभूतियों में निवेश करके पूँजी का संरक्षण करने का प्रयास होता है और इक्विटी/इक्विटी आधारित लिखतों में निवेश करके पूँजी वृद्धि जनरेट करना द्वितीय उद्देश्य होता है.

पूँजी गोल्ड एक्सचेंड ट्रेडेड फंड (जीईटीएफ)

गोल्ड एक्सचेंड ट्रेडेड फंड नवीन, किफायती और सुरक्षित तरीके से निवेशकों को गोल्ड मार्केट तक पहुँच बनाने में सक्षम बनाता है। गोल्ड ईटीएफ निवेशकों को गोल्ड की बिना वास्तविक प्राप्ति के स्टॉक एक्सचेंज में यूनिटों की खरीद और बिक्री द्वारा गोल्ड बुलियन मार्केट में सहभागिता लेने के लिए लाया गया है.

मात्रात्मक निधियाँ

मात्रात्मक निधि एक निवेश फंड है, जो मात्रात्मक विश्लेषण के आधार पर प्रतिभूतियों का चयन करता है। ऐसे फंड के मैनेजर निवेश के आकर्षक होने या नहीं होने के निर्णय हेतु कम्प्यूटर आधारित मॉडल बनाते हैं। एक शुद्ध “मात्रा खरीद” की खरीद या बिक्री के लिए अंतिम निर्णय मॉडल द्वारा किया जाता है। तथापि, ऐसी स्थिति भी होती है जहाँ फंड मैनेजर मात्रात्मक मॉडल के अतिरिक्त मानवीय निर्णयों का भी प्रयोग करता है.

विदेश में निधियों का निवेश

भारतीय अर्थव्यवस्था के खुलने के बाद, म्यूचुअल फंड को विदेशी प्रतिभूतियों/अमेरिकी डिपॉजिटरी रसीदों (एडीआर)/वैश्विक डिपॉजिटरी रसीदों (जीडीआर) में निवेश करने को मंजूरी दी गई है. ऐसी कुछ योजनाओं के फंड विदेश में ही निवेश करने के लिए समर्पित होते है जबकि अन्य निवेश आंशिक रूप से विदेशी प्रतिभूतियों तथा आंशिक रूप से घरेलू प्रतिभूतियों में निवेश किए जाते हैं। हालांकि अधिकतर ऐसी योजनाएँ पूरी दुनिया में प्रतिभूतियों में निवेश करती हैं, वहीं कुछ ऐसी भी योजनाएँ हैं जो किसी विनिर्दिष्ट देश में अपना निवेश करने का दृष्टिकोण रखती है.

निधियों का फंड (एफओएफ)

निधियों का फंड ऐसी योजनाएँ है जिनमें अन्य म्यूचुअल फंड योजनाओं में निवेश किया जाता है। इन योजनाओं के पॉर्टफोलियों में केवल अन्य म्यूचुअल फंड योजनाओं तथा कैश/मनी मार्केट प्रतिभूतियों/अल्पकालिक जमा लंबित अविनियोजन की यूनिट शामिल होगी। निधियों का फंड विनिर्दिष्ट क्षेत्र उदा. रियल इस्टेट एफओएफ, विनिर्दिष्ट थीम उदा. इक्विटी एफओएफ, विनिर्दिष्ट उद्देश्य उदा. लाइफ स्टेज एफओएफ या विनिर्दिष्ट स्टाईल उदा. आक्रामक / सतर्क एफओएफ आदि हो सकती हैं.

कृपया ध्यान रखें कि कोई एक योजना सभी समय के लिए आपकी सभी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर सकती है। आपको अपने धन को न्यायसंगत तरीके से विभिन्न योजनाओं जो आपके लिए बेहतर हो उनमें वृद्धि, आय तथा स्थिरता के मिश्रण में निवेश करना चाहिए। ध्यान रहे कि उच्च रिटर्न की चाहत के साथ आपको उच्च जोख़िम के लिए भी तैयार रहना होगा

1 thought on “म्यूचुअल फंड में क्यों निवेश करें?”

Leave a Comment